lic

इंश्योरेंस पॉलिसी होल्डर्स को मिलने जा रही नई सुविधा, जानिए

इंश्योरेंस पॉलिसी होल्डर्स को मिलने जा रही नई सुविधा, जानिए

Agent Portability Option: अगर आप ने भारतीय जीवन बीमा निगम या किसी भी अन्य कंपनी की पॉलिसी ले रखी है तो आपके काम का है, देश में जल्द ही इंश्योरेंस पॉलिसी के एजेंट की पोर्टेबिलिटी की सुविधा जल्द ही मिलने वाली है।

बीमा खरीदने से पहले इंश्योरेंस कंपनी की सेहत जरूर चेक करें, क्लेम पाने में  नहीं होगी परेशानी Before buying policy check the health of the insurance  company, there will be no problem in getting the c - India TV Hindi News

भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण ने यह फैसला लिया है कि अगर कोई पॉलिसी होल्डर अपने इंश्योरेंस एजेंट के काम से खुश नहीं हैं तो वह अपनी जरूरत के अनुसार एजेंट बदल सकता है, यह नियम सामान्य बीमा एजेंट पर लागू नहीं होता, लेकिन 20 साल जैसी लंबी अवधि की जीवन बीमा पॉलिसी पर आपको यह सुविधा मिल सकती है।

प्रधानमंत्री बीमा सुरक्षा योजना में सिर्फ 1 रुपए महीने के प्रीमियम पर मिलता  है 2 लाख रुपए का इंश्योरेंस | Insurance ; Insurance Policy ; Minister Bima  Suraksha Yojana ...

किसी तरह के विवाद पर बदल सकते हैं एजेंट-

अगर कोई पॉलिसीहोल्डर पुराने एजेंट को हटाकर नया एजेंट रख लेता है तो बीमा पर मिलने वाला कमीशन नए एजेंट को मिलने लगता है, यह सुविधा उन लोगों के लिए बहुत फायदेमंद हैं जो अपने एजेंट के व्यवहार से खुश नहीं हैं और उन्हें बदलना चाहते हैं।

यानि कई बार एजेंट लोगों को अपने फायदे के चक्कर में ऐसी पॉलिसी बेच देते हैं, जिसमें उनका (एजेंट) का ज्यादा फायदा हो, ऐसे में बाद में एजेंट और पॉलिसी होल्डर के बीच विवाद हो जाता है, IRDAI के एजेंट पोर्टेबिलिटी नियम के लागू होने के बाद आप अपनी सुविधा के अनुसार पॉलिसी लेने के बाद भी एजेंट बदल पाएंगे। 

पहले समझे फिर खरीदें इंश्योरेंस, 5 मिनट में क्लीयर हो जाएगा सारा फंडा

पॉलिसी होल्डर्स के हक में फैसला-

एजेंट पोर्टेबिलिटी का यह नियम भारतीय जीवन बीमा निगम के साथ-साथ अन्य बीमा कंपनियों के एजेंट्स पर भी लागू होगा, ध्यान देने वाली बात ये है कि IRDA ने पिछले कुछ समय में कई ऐसे फैसले लिए हैं जिससे ग्राहकों को ज्यादा से ज्यादा सुविधा मिल सकें, इससे पहले बीमा नियामक ने बीमा कंपनियों को अपने कस्टमर के जरूरतों के अनुसार हॉस्पिटल के पैनल को शामिल करने की भी छूट दे दी थी।

इसके साथ ही कैशलेस सुविधा के नियमों में भी छूट देने का फैसला किया था, इससे अब ग्राहकों को ज्यादा से ज्यादा हॉस्पिटल कैशलेस इलाज की सुविधा मिल रही है, साथ ही IRDAI ने बीमा कंपनियों को ऐसी नीति बनाने को कहा है जिससे ज्यादा से ज्यादा अस्पताल में कैशलेस इलाज की सुविधा मिल सकें।

 


Comment As: