NIA और ED छापेमारी

एक्शन में मोड़ में NIA और ED, PFI के ठिकानों पर की छापेमारी

एक्शन में मोड़ में NIA और ED, PFI के ठिकानों पर की छापेमारी

लखनऊ। प्रदेश में टेरर फंडिंग मामले को लेकर देशभर में NIA और ईडी ने सख्त एक्शन लेते हुए देर रात छापेमारी कर दी है। बतादें कि इसी बीच राजधानी लखनऊ से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। जहां पर NIA ने एक्शन लेते हुए देश के 10 से ज्यादा राज्यों में PFI के ठिकानों पर छापेमारी की हैं। बतादें कि इस दौरान 100 से ज्यादा लोगों को हिरासत में भी लिया गया हैं। 

बतादें कि NIA की ठीम ने यूपी से लेकर केरल तक की छापेमारी की हैं। उत्तर प्रदेश से लगभग 10 लोगों को हिरासत में लिया गया हैं। लखनऊ से जूड़े दो लोगों को भी हिरासत में लिया गया हैं। हिरासत में लिए गए यह लोग PFI से जूड़े बताएं जा रहें हैं। एक को लवकुश नगर से हिरासत में लिया गया हैं। वहीं दुसरे को लखनऊ के इंदिरा नगर से हिरासत में लिया गया हैं। बतादैं कि इंदिरा नगर से जिस संदिग्ध वसिम की गिरफ्तारी हुई हैं। उस वसिम ने नदवा कॉलेज से पढ़ाई की हैं। वसिम को लेकर बतादें कि चिन्नहट इलाके में भी वसिम का एक घर हैं। वसिम इसके पहले CAA के NRC मामले में जेल में था। जोकि 5 महिनें पहले वसिम जमानत से बाहार आया था। 

आयकर विभाग ने की बड़ी छापेमारी ,शराब माफिया, पान मसाला, बिल्डर्स पर एक साथ  मारा छापा - Bharat Samachar | Hindi News Channel

बतादें कि वसिम की गिरफ्तारी के दौरान उसके घर से तमाम इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को भी जांच के लिए ले जाया गया हैं जैसे की लेपटॉप,मोबाइल, टेबलेट,....। साथ ही साथ जो भी चीजें संदिग्ध नजर आई हैं उनको भी एकत्रित किया गया हैं और तमाम दस्तावेजों को साथ अकाउंट से जुड़े दस्तावेज और आईडी प्रूफ भी गिरफ्तार के दौरान जमा कर लिया गया हैं। आपको बतादें कि यह वहीं सख्श है जो कानपुर में हुए दंगे में भी शामिल बताया गया था। साथ ही साथ उत्तर प्रदेश में पाकिस्तान का झंड़ा फैहराने को लेकर भी सुर्खियों में आया था। जिसके बाद उसे हाउस अरेस्ट भी किया गया था। 

वहीं से दिल्ली में पीएफआई के अध्यक्ष परवेज और उनके भाई को गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा पीएफआई के राष्ट्रीय सचिव वीपी नजरुद्दीन को भी हिरासत में लिया गया है। बताया गया है कि एनआईए की टीम इन्हें अपने साथ लेकर गई है।  NIA के अधिकारियों के मुताबिक, छापेमारी मुख्यत: दक्षिण भारत में की जा रही है और NIA ने इसे ‘अब तक का सबसे बड़ा जांच अभियान’ करार दिया है।छापेमारी को लेकर NIA ने कहा- आतंकवदियों को कथित तौर पर धन मुहैया कराने, उनके लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था करने और लोगों को प्रतिबंधित संगठनों से जुड़ने के लिए बरगलाने में शामिल लोगों के ठिकानों पर छापे मारे जा रहे हैं।

NIA carries out raids in 3 states in case related to narco-terrorism

बतादें कि NIA की छापेमारी दस राज्यों में की जा रही है और इस दौरान पीएफआई के बड़े नेताओं सहित लगभग 100 कार्यकर्ताओं को भी हिरासत में लिया जा चुका है। NIA के छापेमारी को लेकर PFI ने एक बयान भी जारी किया हैं। PFI ने बयान में कहा- “PFI के राष्ट्रीय, राज्य स्तरीय और स्थानीय नेताओं के घरों पर छापेमारी की जा रही है। राज्य समिति कार्यालय पर भी छापे मारे जा रहे हैं।” आंध्र प्रदेश से 5, असम से 9, दिल्ली से 3, कर्नाटक से 20, केरल से 22, एमपी से 4 और महाराष्ट्र से 20, लखनऊ में 2 गिरफ्तारी हुई है।

बतादें कि इसी हिरासत में आगे मध्य प्रदेश के इंदौर और उज्जैन में भी  NIA की छापेमारी हुई है, जिसमें PFI के मध्य प्रदेश के स्टेट लीडर्स को हिरासत में लिया गया है। इसमें 4 लीडर्स को मध्य प्रदेश के उज्जैन और इंदौर से  NIA ने हिरासत में लिया है। छापेमारी के दौरान मध्य प्रदेश के ठिकानों से टेरर फंडिंग का हिसाब किताब और साहित्य बरामद हुआ है।

The Criminal Procedure Code: Arrests - IndiaFilings

NIA के छापेमारी को लेकर PFI कार्यकरताओं का कहना हैं कि ये उनके खिलाफ साजिश की जा रही हैं जिसको लेकर PFI ने कहा-, “हम विरोध की आवाज को दबाने के लिए फासीवादी शासन द्वारा केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग किए जाने का कड़ा विरोध करते हैं।” फिलहाल PFI के नेताओं और सदस्यों की गिरफ्तारी का दौर जारी है।


Comment As: