Mirzapur News: रामलीला कमेटी बरियाघाट के तत्वाधान में पूर्वांचल का सबसे बड़ा दशमी मेला , संदिग्ध परिस्थितियों में दो मासूम बच्चियों की हुई मौत, CMO Aligarh: CMO अलीगढ़ ने किया स्वास्थ्यकेंद्र का औचक निरीक्षण, डॉक्टरों के छूटे पसीने, शराब के नशे में धुत पिता अपने बेटे को भुला मेले में, 17 घंटे ढूंढ़ने के बाद भी... , बैंक में निकलीं 7855 नौकरियां:IBPS ने निकालीं वैकेंसी, सिलेक्शन ऑनलाइन एग्जाम के जरिए; 27 तक करें अप्लाई, श्रम विभाग के द्वारा मजदूर व मेधावी छात्रों को बांटी गई साइकिल, साइकिल पाकर खिल उठे चेहरे, Dengue News: Aligarh में कहर बरपा रहा डेंगू और वायरल बुखार, 24 घंटे में 5 मरे, नगर पालिका से परेशान जनपद वासी, घर से सामने ही किया जा रहा कूड़ा डंप , Auraiya News: वाहन की टक्कर से युवक की मौत, गुस्साए ग्रामीणों ने लगाया जाम, Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: खुद को मानते हैं 'तारक मेहता' का ज़बरदस्त फैन, तो पहचानिए इन फोटो में अपने फेवरेट किरदार को ,

The-farmer-has-become-rich-due-to-the-cultivation-of

भिंडी का रंग देख लोगो का उड़ा होश कीमत सुन आप भी हो जाएगे हैरान

भिंडी का रंग देख लोगो का उड़ा होश कीमत सुन आप भी हो जाएगे हैरान

भिंडी आप में से कई लोगों की सबसे पसंदीदा डिश होगी. अब आप जब भी घर में ये रेसिपी तैयार करते होंगे तो जाहिर सी बात है कि हरी भिंडी का ही इस्तेमाल करते होंगे.

जब लोगों को लाल भिंडी (Red ladyfinger) की कीमत के बारे में पता चला तो उनके होश उड़ गए. हा  चौकिया नाह ये बात है मध्य प्रदेश के एक किसान की जिसकी आज कल  खूब चर्चा हो रही है, क्योकि उसने अपने खेत में लाल भिंडी उगाई है. लेकिन ये भिंडी इतनी महंगी है कि इसे खरीदने के लिए आपको अच्छे-खासे पैसे खर्च करने होंगे.

इस भिंडी को हरी भिंडी से सात गुना ज्यादा दाम पर बेचा जा रहा है. यहां तक कि कुछ मॉल्स में तो इसे 300 से 400 रुपये प्रति 250/500 ग्राम के हिसाब से बेचा जाता है.हरी भिंडी की तुलना में इस भिंडी की फसल 45 से 50 दिनों में तैयार हो जाती है. एक पौधे में करीब 50 भिंडी तक पैदा हो जाती है. एक एकड़ जमीन में 40 से 50 क्विंटल लाल भिंडी का उत्पादन हो सकता है. मौसम अच्छा रहा तो ये उत्पादन बढ़कर 80 क्विंटल तक  हो सकता है. मध्य प्रदेश के खजुरी कलान जिले के रहने वाले मिश्रीलाल राजपूत नाम के एक किसान ने लाल भिंडी की खेती की है | 

 

मिश्रीलाल ने बताया कि उन्होंने वाराणसी के एग्रीकल्चर रिसर्च इंस्टीट्यूट से बीज खरीदा था, जिसकी जुलाई के पहले हफ्ते में उन्होंने बुआई की और लगभग 40 दिनों के बाद पौधों में भिंडी उगने लगी. उन्होंने इस भिंडी की खेती में कोई हानिकारक कीटनाशक भी नहीं डाला. कई लोगों का मानना है कि जिन लोगों को दिल की बीमारी, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज या हाई कोलेस्ट्रॉल की शिकायत है उनके लिए ये काफी लाभदायक है
 


Comment As:

Comment (0)